जवाहरलाल नेहरू | Jawaharlal Nehru

पं॰ जवाहरलाल नेहरू



जवाहरलाल नेहरू | Jawaharlal Nehru अनेक भारतीयों, जिनमें वृद्ध और नौजवान भी सम्मिलित थे तथा पंडित जवाहरलाल नेहरू ने विदेशी शासन के विरुद्ध अत्यंत साहस, बुद्धिमत्ता, गौरवशाली एवं मानवीय ढंग से स्वतन्त्रता की लड़ाई लड़ी तथा भारत को स्वतन्त्र कराकर विश्व पटल पर एक स्वस्थ लोकतान्त्रिक देश के रूप में स्थापित किया, जिसके फलस्वरूप भारत प्रगति एवं समृद्धि के मार्ग पर अग्रसर हुआ। भारतीय स्वतन्त्रता के महान, अग्रणी देवदूत एवं स्वाधीनता प्राप्ति के कंटकपूर्ण मार्ग पर चलने वाले इस अदम्य नेता का जन्म 14 नवम्बर, 1889 को हुआ था।

नेहरू के पूर्वज कश्मीर से आये थे। उनका मौलिक पारिवारिक नाम नेहरू नहीं बल्कि कौल था। नेहरू के पिता मोतीलाल नेहरू एक अत्यंत सफल वकील थे, जिनकी धन अर्जित करने की योग्यता उनकी खर्च करने की योग्यता की अपेक्षा अधिक थी।

Jawaharlal Nehru
पं॰ जवाहरलाल नेहरू का

पं॰ जवाहरलाल नेहरू का जीवन परिचय

जब जवाहरलाल 3 वर्ष के थे, तब उनके पिता इलाहाबाद के आनन्द भवन में आ गये, जो कि एक अत्यंत शानदार घर था जिसमें एक स्विमिंग पूल, बिजली तथा पानी की पर्याप्त व्यवस्था थी। इस प्रकार की सुविधाओं से युक्त भवन इलाहाबाद में पहली बार बना था। आनन्द भवन विदेशी तथा भारतीय जीवन पद्धति के बीच उत्कृष्ट सामंजस्य का उदाहरण प्रस्तुत करता था।

मोतीलाल नेहरू ने अपनी पत्नी स्वरूप रानी एवं बच्चों के साथ आनन्दमय जीवन व्यतीत किया। जैसा कि इस जीवन के बारे में सच्चाई को स्वीकार करते हुए जवाहरलाल ने अपनी आत्मकथा में वर्णित किया है, “एक समृद्धिशाली मां-बाप की इकलौती सन्तान के बर्बाद होने की सम्भावना ज्यादा रहती है , और वह भी विशेष रूप से भारत में हो तो बर्बाद होने से बचने की संभावना अत्यंत कम ही रहती है।” उनका बचपन एकाकी रहा। Jawaharlal Nehru

Jawaharlal Nehru की शिक्षा

16 वर्ष की आयु में वे हैरो विश्वविद्यालय लन्दन में पढ़ने गए। उससे पूर्व नेहरू कभी स्कूल नहीं गए। उनकी शिक्षा-दीक्षा क्रमबद्ध ढंग से अंग्रेजी आयाओं तथा निजी शिक्षकों द्वारा घर पर ही हुई और इन सबमें केवल फर्डीनाण्ड टी. ब्रुक्स ही युवा नेहरू को प्रभावित कर सके व अपनी छाप छोड़ पाये ब्रुक्स ने जवाहरलाल के मन-मस्तिष्क में दो रुचियों का विशेष रूप से विकास किया, एक, पढ़ने में रुचि लेना, तथा; दूसरा, विज्ञान और उसके रहस्यों के प्रति एक जिज्ञासु प्रवृत्ति अपनाना।Jawaharlal Nehru

मई 1905 में जवाहरलाल ने अपने माता-पिता के साथ में इंग्लैण्ड की यात्रा की। उन्होंने 1905 के क्रिसमस सत्र में हैरो विश्वविद्यालय में प्रवेश लिया और 1907 के ग्रीष्म सत्र में उसे छोड़ दिया। हैरो में उन्होंने वे सभी कार्य किए जो अनुरूप एक पब्लिक स्कूल के लड़कों के लिए अनिवार्य थे। यद्यपि वहां के वातावरण के अनुकूल न होने पर भी उन्होंने स्वयं को नई परिस्थितियों के ढाला। वे यहां स्वयं अपनी इच्छा से आए थे किंतु यहां के बौद्धिक संयम एवं कारावास स्वरूप जीवन से उन्हें कष्ट पहुंचा।

अक्टूबर 1907 में वे विश्व के सबसे बड़े विश्वविद्यालय कैम्ब्रिज के ट्रिनिटी महाविद्यालय में अध्ययन हेतु गए। विज्ञान विषय में रुचि के कारण उन्होंने कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय की अंतिम उपाधि परीक्षा के लिए प्राकृतिक विज्ञान को चुना, जबकि उनके विषय रसायनशास्त्र, भू-गर्भशास्त्र तथा वनस्पति विज्ञान थे। Jawaharlal Nehru

किंतु उनकी रुचि का क्षेत्र अत्यंत व्यापक था और स्वाभाविक रूप से जिज्ञासु प्रवृत्ति होने के कारण उनका मस्तिष्क नवीन अनुभवों की प्राप्ति के लिए सदैव प्रयत्नशील रहता था। राजनीति शास्त्र व अर्थशास्त्र उन्हें आकर्षित करते रहे तथा इतिहास व साहित्य के प्रति उनका झुकाव दिनों-दिन बढ़ता गया। जो भी हो पर जवाहरलाल विश्वविद्यालयी जीवन में छात्रों के बीच अपना कोई विशेष प्रभाव नहीं छोड़ पाये। Jawaharlal Nehru

ब्रिटेन में 7 साल तक रहने के बाद भी जवाहरलाल का परीक्षा परिणाम बहुत ही असंतोषजनक रहा पर पुस्तक प्रेमी होने के कारण उन्होंने एक अच्छा-सा पुस्तकालय बना लिया था। एम.जे. अकबर के अनुसार, “जवाहरलाल निश्चित रूप से ब्रिटेन के प्रेमी हो गये।” इसका प्रमाण यह है कि अपनी वापसी के 10 साल बाद भी मई 1922 में अपने ट्रायल के संबंध में चर्चा करते हुए ब्रिटिश जज से कहा, “मैं इंग्लैण्ड व अंग्रेजों के प्रति उतने ही लगाव के साथ भारत वापस आया हूं जितना कि एक भारतीय के लिए होना सम्भव था।

जवाहरलाल नेहरू | Jawaharlal Nehru देशभक्ति व स्वाधीनता के प्रति ब्रिटिश सरकार की प्रतिबद्धता के वे प्रशंसक थे। भारत में एक भारतीय के रूप में पूर्ण स्वतन्त्रता चाहते थे। धीरे-धीरे ब्रिटिश नियमों के प्रति उनकी घृणा इतनी बढ़ती गई जितनी कि वे किसी से घृणा नहीं करते थे। वे खोज और उत्साह की मनोभावना के साथ इंग्लैण्ड गये थे लेकिन भारत की खोज के लिए अपनी मातृभूमि को लौट आए। यह कम महत्वपूर्ण नहीं है कि कुछ ही वर्षों के बाद उनकी जो पुस्तक प्रकाशित हुई वह भारत की खोज (Discovery of India) ही थी।Jawaharlal Nehru

नेहरू सर्वप्रथम गोपाल कृष्ण गोखले की “सर्वेन्ट्स ऑफ इन्डिया सोसायटी” की तरफ आकर्षित हुए। सेवा व त्याग की भावना से ‘सोसायटी’ से प्रभावित होते हुए भी उन्होंने न तो तब न बाद में उसमें सम्मिलित होने की बात सोची । फ्रैंक मोरास के अनुसार, “उस समय नेहरू की नजर में गांधी का नाम बहुत गइराई तक घर कर गया। दक्षिण अफ्रीका सरकार के खिलाफ गांधी द्वारा संचालित नटाल सत्याग्रह से नेहरू बहुत प्रभावित हुए, जो कि श्रमिकों पर लगने वाले वार्षिक कर को समाप्त करने या रद्द करने के लिए चलाया था।

नेहरू का विवाह 8 फरवरी, 1910 को दिल्ली में कमला के साथ हुआ। 26 वर्षीय जवाहर तथा 17 वर्षीया कमला का विवाह उस समय की सबसे महत्वपूर्ण घटना थी। 19 नवम्बर, 1917 को इस दम्पत्ति के घर एक पुत्री का जन्म हुआ, जिसका नाम इन्दिरा प्रियदर्शनी रखा गया ।Jawaharlal Nehru biography

आधुनिक भारत के राजनैतिक इतिहास में 1916 के वर्ष का अपना एक अलग ही महत्वपूर्ण स्थान है। उस वर्ष कांग्रेस के लखनऊ अधिवेशन में कांग्रेस तथा मुस्लिम लीग ने एक साथ मिलकर काम करने का निर्णय किया। इसी वर्ष नेहरू की पहली बार गांधी जी से मुलाकात हुई। इस अधिवेशन में न तो नेहरू किसी किसी निर्णय पर पहुंच पाए और न ही गांधी जी। उसी वर्ष नेहरू को तिलक और एनी बेसेन्ट द्वारा संचालित प्रॉविन्शियल होम रूल लीग का संयुक्त सचिव बना दिया गया। बहुत समय बाद नेहरू ने श्रीमती बेसेन्ट के संबंध में अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि, “उनके व्यक्तित्व ने मेरे बचपन को काफी प्रभावित किया और राजनीति में हिस्सा लेने के बाद भी उनका प्रभाव बरकार रहा ।”Jawaharlal Nehru biography

Baba Saheb Dr Bhim Rao Ambedkar

motivenews.net , anayasha.com को भी पढ़कर जान सकते हैं ।

जाकिर हुसैन | Dr. Jakir Husain

डॉक्टर जाकिर हुसैन (1897-1969): डॉ. जाकिर हुसैन एक प्रतिष्ठित राष्ट्रवादी व एक महान शिक्षाशास्त्री थे। इनका जन्म फरवरी 1897 में हैदराबाद में एक अफगानी परिवार में हुआ था। 1913 में इटावा के “इस्लामिया हाईस्कूल” से मैट्रिक की परीक्षा पास करने के बाद उन्होंने अलीगढ़ के “मोहम्मडन एंग्लो ओरिएंटल कालेज” में प्रवेश लिया। जाकिर हुसैन अपने समय के मेधावी विद्यार्थी थे तथा साथ ही साथ अन्य कार्यकलापों में भी असाधारण रूप से उनकी प्रतिभा का निखार देखने को मिलता था।

Dr. Jakir Husain
Dr. Jakir Husain

जाकिर हुसैन का राजनैतिक जीवन 1920 में शुरू हुआ तथा गांधी के आह्वान पर 1921 के असहयोग आंदोलन में एक वीर सेनानी के रूप में अपने आपको देश की आजादी प्राप्ति के पथ पर समर्पित कर दिया तथा शिक्षा संस्थान के अध्ययन से अलग कर लिया। गांधी के मिशन से गहरे रूप में प्रभावित होने के बाद राष्ट्रीय शिक्षा के केंद्रीय विकास के लिए कुछ विद्यार्थियों व अध्यापकों की मदद से एक संस्थान की स्थापना की जो कि बाद में जामिया मिलिया इस्लामिया के नाम से प्रसिद्ध हुआ ।1923 में वे उच्च शिक्षा की प्राप्ति के लिए जर्मनी गये तथा 1926 में बर्लिन विश्वविद्यालय से अर्थशास्त्र में डॉक्टरेट की डिग्री प्राप्त की।Dr. Jakir Husain

जर्मनी में अपनी यात्रा के दौरान जाकिर हुसैन जामिया के साथ भी संपर्क में रहे और घनिष्ठ रूप में उसके विकास के लिए प्रयास करते रहे। 1926 में भारत वापस आने पर 29 वर्ष की अवस्था में विश्वविद्यालय के उप-कुलपति के पद पर नियुक्त किये गये । उनके कैप्टनशिप के अंतर्गत उन्होंने जामिया को उच्च शिखर पर पहुंचाया, जिसके परिणामस्वरूप इस विश्वविद्यालय ने विश्व के शिक्षाशास्त्रियों का ध्यान अपनी ओर आकर्षित किया।डॉ. जाकिर हुसैन 2631997 में उन्होंने वर्धा में राष्ट्रीय योजना सम्मेलन में भाग लिया। जाकिर हुसैन को “प्रारंभिक राष्ट्रीय शिक्षा योजना” का विस्तार प्रारूप तैयार करने का भार सौंपा गया। इस संबंध में उनके द्वारा तैयार प्रारूप बड़े स्वागत के साथ स्वीकृत कर लिया गया। इसके साथ ही साथ जाकिर हुसैन ने प्रारंभिक शिक्षा प्रचार की भी जिम्मेदारी अपने ऊपर ले ली। Dr. Jakir Husain

1948 में उन्हें सर्वसम्मति से यूनिवर्सिटी कोर्ट द्वारा “अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय” का उपकुलपति नियुक्त किया गया। 1948 में उन्हें “भारतीय विश्वविद्यालय आयोग” का एक प्रतिष्ठित सदस्य नियुक्त किया गया। शिक्षा के क्षेत्र में उनके प्रतिभायुक्त कार्यों को देखते हुए यूनेस्को (संयुक्त राष्ट्र शैक्षिक, वैज्ञानिक एवं सांस्कृतिक संगठन) के प्रशासनिक बोर्ड में एक सदस्य के रूप में नियुक्त किये गये। वह “भारतीय प्रेस आयोग”, “अंतरराष्ट्रीय शिक्षा सेवा” तथा सीबीएसई आदि से भी जुड़े रहे।डॉ. जाकिर हुसैन 1952 व 1956 में दो बार राज्यसभा के सदस्य रहे। 1957 में उन्हें बिहार का राज्यपाल नियुक्त किया गया था। 1962 में उन्हें भारत के उपराष्ट्रपति पद पर नियुक्त किया गया। 1967 में उन्हें देश के राष्ट्रपति पद पर नियुक्त किया गया। Dr. Jakir Husain

उनका देहांत 3 मई 1969 को उस पद पर रहते ही हो गया।डॉ. जाकिर हुसैन ने प्लेटो की पुस्तक रिपब्लिक तथा एडविन कैनन की पुस्तक इलिमेंटरी पोलिटिकल इकोनामी का अनुवाद किया। उन्होंने जर्मन भाषा में एक पुस्तक लिखी-डाई बोट्स चाफ्टडेस महात्मा गांधी। उनके बहुत से भाषणों का संकलित जो कि भिन्न-भिन्न सभाओं व अधिवेशन में दिया गया, का संकलन रूप डायनामिक यूनिवर्सिटी नामक शीर्षक से प्रकाशित हुआ है। उन्होंने बच्चों के लिए बहुत-सी छोटी-छोटी कहानियां उपनाम या छद्म नाम से लिखी। उनमें से एक था रुक्कैया रेहाना ।एक महान शिक्षाशास्त्री के रूप में वह इस बात पर जोर देकर कहते थे कि प्रारंभिक शिक्षा के आधार पर ही एक बच्चे का, चहुंमुखी विकास किया जा सकता है। Dr. Jakir Husain

वह इस बात के भी प्रबल रूप से समर्थक थे कि धर्मनिरपेक्षता के मार्ग पर चलकर ही साम्प्रदायिकतापूर्ण राजनीति व व्यवहार से छुटकारा पाया जा सकता है। डॉ. जाकिर हुसैन का आध्यात्मिक दर्शन के ज्ञान का भी कोई जवाब नहीं जिसके चलते उनकी जिंदगी भी सूफी संतों के अनुरूप रही। राष्ट्र के लिए पूर्ण रूप से समर्पित मानवीय गुणों के इस चितेरे को 1963 में भारत रत्न के पुरस्कार से सम्मानित किया गया।Dr. Jakir Husain

momotivenews.net

Sonu Kumar biography | सोनू कुमार बिहार ब्वॉय का जीवन परिचय

Sonu Kumar biography | सोनू कुमार बिहार ब्वॉय । सोनू कुमार बिहार में जन्मे एक बहुत ही गरीब परिवार का बच्चा है । जो अपने पढ़ाई के लिए बहुत ही चिंतित है । और आईएएस अफसर बनने के लिए बिहार की शिक्षा व्यवस्था पर सवाल खड़े कर दिए हैं । सोनू कुमार का कहना है कि अगर सरकारी स्कूल की शिक्षा व्यवस्था को नहीं सुधरा गया तो एक भी बच्चा पढ़ लिख कर अफसर नही बन सकता है ।

Sonu Kumar biography
सोनू कुमार

बहुत ही कम उम्र का बच्चा जो महज 12 वर्ष का बच्चे ने पूरे सरकारी शिक्षा व्यवस्था पर सवालिया निशान लगा दिया है । इस छोटे से बच्चे ने आईएएस बनने का सपना लेकर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से दो बार मिल चुका है । और उनसे बोल भी चुका है कि ,”सर हमको पढ़ने के लिए हिम्मत दीजिए “। Sonu Kumar biography

sonu viral boy hoby/ WIKI इनका परिवार दही बेचकर चलता है । जो स्कूल की फीस भरने तक सक्षम नहीं हैं ।

सोनू कुमार के माता पिता

सोनू कुमार एक बहुत ही गरीब परिवार से है । इनके घर का खर्चा बड़ी मुश्किल से चल पाता है । मां एक हाउस वाइफ और पिता एक गरीब किसान हैं । जिन्हे शराब पीने की लत लग गई है । सोनू की फीस भरने में इनके पिता सक्षम नहीं हैं । इन्ही सब समस्याओं को लेकर सोनू कुमार ने अपने शिक्षा के लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से भी मिल चुका है । मुखमंत्री ने आश्वासन भी दिया है । अपने अधिकारियों से सोनू के फीस और एडमिशन की व्यवस्था करने के लिए बोल भी दिए हैं । Sonu Kumar biography anayasha.com

सोनू कुमार की शिक्षा

सोनू कुमार एक बहुत ही होनहार छात्र हैं । ये नीमा कुल में एक प्राथमिक विद्यालय सरकारी स्कूल में कक्षा पांच में पढ़ाई कर रहे हैं । सोनू का कहना है कि सरकारी स्कूल में पढ़कर कोई भी छात्र अच्छी सर्विस नहीं पा सकता है । ये सरकारी स्कूल के कक्षा 8 तक और प्राइवेट स्कूल के कक्षा पांच तक के बच्चों को ट्यूशन पढ़ाते हैं । पढ़ें anayasha.com

Sonu Kumar

Sonu Kumar biography | सोनू कुमार का जीवन परिचय

नालंदा बिहार के एक छोटे से गांव में पैदा हुए हैं । इनकी उम्र 12 वर्ष है । सोनू के बारे में कुछ जानकारियां निम्न लिखित हैं ।

नामसोनू कुमार
निक नेमसोनू
जन्म स्थाननालंदा बिहार
उम्र 12 वर्ष
योग्यतापंचावी क्लास
सपनाआईएएस बनना चाहते हैं
व्यवसाय दही बेचना
माता हाउस वाइफ
पिताकिसान
धर्म हिंदू
सोनू कुमार

अभी सोनू कुमार के बारे में जो भी जानकारी मिल पाई है वो मैने लिखा है जैसे जैसे कोई जानकारी मिलेगी इस पोस्ट में अपडेट करते रहेंगे । आप को यह पोस्ट कैसा लगा कृपया कमेंट करके बताएं । Sonu Kumar biography

सोनू कुमार के बारे में कुछ रोचक तथ्य

  • सोनू कुमार एक बहुत ही निडर बालक है ।
  • यह पांचवी कक्षा तक के बच्चों को ट्यूशन पढ़ाता है ।
  • दो बार बिहार के मुख्यमंत्री नीतिश कुमार से मिल चुका है ।
  • सरकारी शिक्षा व्यवस्था के साथ साथ अपने शिक्षक पर भी सवालिया निशान लगा दिया है ।
  • ये एक शाकाहारी हैं ।
  • इनके दो चाचा हैं जिनका नाम रंजीत कुमार और रनबीर कुमार हैं ।

सोनू कुमार ने बहुत लोगों का ऑफर ठुकराया

सोनू को बहुत से लोगों ने ऑफर दिया था लेकिन इस बच्चे ने उनके ऑफर को ठुकरा दिया था । एक बार पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव के बेटे तेजस्वी यादव ने कहा कि जब तुम आईएएस अधिकारी बन जाना तो मेरे अंडर में काम करना । इसपर सोनू का जवाब था कि मैं किसी के अंडर में काम नहीं करूंगा ।

इस छोटे से बच्चे के जवाब को सुनकर लोग बहुत हैरान हैं मीडिया वाले भी हैरान हो जाते हैं । एक बार किसी ने पूछा कि तुम क्या मुख्यमंत्री बनोगे तो उसने जबाब दिया की उसे मंत्री नहीं आईएएस बनकर देश की सेवा करनी है ।

सोनू की उम्र कितनी है ?

सोनू की उम्र सन 2022 तक 11 वर्ष की हो गई है ।

सोनू कुमार का गांव किस जिले में है ?

सोनू कुमार बिहार के जिला राजगीर नालंदा के रहने वाले हैं ।

सोनू कुमार के पिता का क्या नाम है ?

सोनू कुमार के पिता का नाम रणविजय है ।

और पढ़ें Ratan Tata Biography In Hindi Rashmika Mandanna | रश्मिका मंदाना Motivenews.net

Janhavi Panwar | जान्हवी पंवार एक वंडरगर्ल

Janhavi Panwar | जान्हवी पंवार एक वंडरगर्ल । जान्हवी पंवार एक मशहूर गर्ल जो वंडर गर्ल के जानी जाती हैं । इनके पीछे एक बहुत बड़ा कारण है जिसकी वजह से लोग इन्हे वंडर गर्ल के नाम से जानते है । कारण ये है की बहुत कम उम्र में ही वो मुकाम हासिल कर लिया है जो बहुत हाई व्यक्तित्व वाले व्यक्ति भी नहीं कर सकता है । 16 साल की उम्र मे ही इन्होने सत्यवती दिल्ली यूनिवर्सिटी से आर्ट्स से ग्रेजुएशन कर चुकी हैं । 9 बिदेशी भाषाओं मे उन्ही के लहजे बात करने में महारत हासिल कर चुकी हैं । जान्हवी पंवार को महज 11 साल की उम्र मे ही इनकी प्रतिभा को देखते हुए “ इंडियाज़ वंडर गर्ल ” की उपाधि दी गयी थी ।

Janhavi Panwar

ये पढ़ने में इतना तेज थी , इसीलिए जान्हवी पंवार को एक साल मे दो दो क्लास पास पास करने की अनुमति दी गयी थी । महज 7 साल की की उम्र मे ही वे आठवीं कक्षा में पहुच गयी थी । जान्हवी को बहुत कम उम्र में ही नई भाषाओं को सीखने का शौक हो गया था ।

Janhavi Panwar ki biography | जान्हवी पंवार का जीवन परिचय

जान्हवी पंवार का जन्म 8 नवंबर 2003 को शहरमलपुर , समालखा ,पानीपत हरियाणा में हुआ था । इनके पिता का नाम बृजमोहन है जी एक प्राइवेट स्कूल में टीचर थे । ये माध्यम वर्ग परिवार से बिलाँग करती है । प्रारम्भिक शिक्षा हरियाणा के स्कूल से की थी और ग्रेजुएशन सत्यवती दिल्ली यूनिवर्सिटी से किया था ।

जान्हवी पंवार के रोचक तथ्य

जान्हवी पंवार (Janhavi Panwar) एक अद्वितीय प्रतिभा की धनी हैं । इनके बारे में कुछ जानकारियाँ है जो निम्नलिखित है ।

  1. Janhavi Panwar की सबसे बड़ी बात यह है की 9 बिदेशी भाषाएँ फर्राटे से उन्ही की स्टाइल मे बोल सकती है ।
  2. जान्हवी के पिता ने बताया कि , “जब वो केवल 1 वर्ष कि थी तभी उनको एहसास हो गया था कि उनकी बेटी अपने उम्र के बच्चों से काफी अलग थी ।
  3. ये एक मोटीविशेनल स्पीकर भी हैं जो आईएएस को ट्रेनिंग भी देती हैं ।
  4. बहुत से बच्चों को इंग्लिश सीखने का क्लास भी लेती हैं ।
  5. Janhavi Panwar आईआईटी के छात्रों से लेकर कई बड़ी संस्थाओं में भी मोटिवेशनल स्पीच दे चुकी है । अपने आप को मोटिवेट करने के लिए बहुत से किताबों काअध्ययन कर चुकी हैं ।
  6. इनके पिता इनको इंग्लिश सीखने के लिए हर संडे को लाल किला ले जाया करते थे । और बाहर से आए फारेनर से बात करने के लिए कहते थे । ऐसा करने से जान्हवी को इंग्लिश सीखने में काफी मदद मिलती थी । यहाँ तक की उनकी बाडी लंगवेज़ को भी बड़े ध्यान से पढ़ती थीं और वैसे ही बोलने का प्रयास भी करती थीं । और इंग्लिश बोलने में सफल रहीं ।
  7. जान्हवी एक्सेंटस सीखने के बारे में कहती हैं कि शुरू में विडियो देखकर एक से दो घंटे तक बोलेने का प्रयास करती थी । दो चैनल बीबीसीऔर सीएनएन को एक साथ देखकर ब्रिटिश और अमेरिकन एक्सेण्ट से अच्छी तरह से परिचित हो पायी थी । इन दोनों चैनलों के समाचार देखने के बाद इसको बार बार दोहराती थी । कई बार पैरेंट के सामने तो कई बार सीसे के सामने एक्सेण्टस को दोहराती थी ।
  8. जान्हवी कहती हैं कि यह सब इतना आसान नहीं था , अँग्रेजी के कारण हमेशा अपने स्कूल के बच्चों के निशाने पर रहती थीं । जब भी कोई एक्सेन्ट इनकी जबान से स्कूल मे निकाल जाता था तब सभी बच्चे इनको चिढ़ाते थे ।
  9. जान्हवी बचपन से न्यूज़ और अखबारों में आती थी , इसपर भी लोग इन्हे चिढ़ाते थे कि ”तुम पढ़ाई मे अच्छी नहीं हो फिर भी टीवी पर आती हो ।”
  10. दो दो क्लास एक साथ करने के कारण इनके कोई दोस्त भी नहीं बन पाये हैं ।
  11. वंडर गर्ल का टैग न्यूज़ चैनलों ने लगा दिया है । इसके बाद सब लोग इसी नाम से बुलाने भी लगे । Janhavi Panwar
  12. Janhavi Panwar के पिता इंग्लिश सीखने के लिए इंग्लिश कि शार्ट फिल्म और विडियो क्लिप डाऊनलोड करके जान्हवी को सुनाते थे । जिससे उनको सुनकर समझ सके ।

Janhavi Panwar | जान्हवी पंवार एक वंडरगर्ल के बारे मे जानकार कैसा लगा कृपया कमेन्ट करके बताएं । Ratan Tata Biography In Hindi कि और Baba Saheb Dr Bhim Rao Ambedkar कि भी बायोग्राफ़ि पढ़ सकते हैं । motivenews.net को भी पढ़ें ।

Sonu Sood biography | सोनू सूद का जीवन परिचय

Sonu Sood biography

Sonu Sood biography | सोनू सूद का जीवन परिचय , . ये एक बहुत अच्छे अभिनेता हैं । सोनू सूद एक ब्यावहार कुशल और लोकप्रिय अभिनेता हैं । ये समय समय पर लोगों की मदद भी करते रहते हैं । ये एक फिल्मी माडल और निर्माता के साथ साथ विज्ञापन मे भी कार्य करते हैं , जो बालीवुड , टालीवुड , कालीवुड और कन्नड जैसी फिल्मों में कम कर चुके हैं ।

Sonu Sood biography

Sonu Sood biography in hindi ( सोनू सूद का जीवन परिचय )

सोनू सूद का जन्म 30 जुलाई 1973 को मोंगा , पंजाब में हुआ था । इनके पिता का नाम शक्ति सागर सूद और माता का नाम सरोज सूद है । इनके पिता पेशे से एक एंटरप्रेन्योर तथा माता सरोज सूद एक टीचर थीं । इनके ब्यक्तिगत जानकार निम्न लिखित है ।

1नाम सोनू सूद
2पिता का नाम शक्ति सागर सूद
3माता का नाम सरोज सूद
4पत्नी का नाम सोनाली सूद
5बच्चे 2 बेटे
6जन्म स्थान मोंगा , पंजाब
7जन्मतिथि 30 जुलाई 1973
8Ist अवार्ड 2009 में बेस्ट पर्फार्मेंस निगेटिव रोल
9IInd अवार्ड2009 में नंदी अवार्ड
10IIrd अवार्ड 2012 में SIIMA अवार्ड
11पहली फिल्म 1999 में कालजघर
12लोकप्रिय किरदार छेदी सिंह
Sonu Sood biography

सोनू सूद का जीवन

एक दमदार विलेन की भूमिका निभाने वाले सोनू सूद एक बहुत ही उदार और हीरो की छवि रखने वाले , एक मशहूर शख्सियत हैं । सोनू सूद बालीवुड से लेकर साउथ सिनेमा में भी अपने अभिनय को लोहा मनवा चुके हैं । ये बहुत सी भाषाओं की फिल्मों में कम कर चुके हैं ,जैसे हिन्दी ,तमिल , तेलुगू , पंजाबी और कन्नड आदि । ये एक सफल अभिनेता के साथ साथ फिल्म निर्माता भी हैं । Sonu Sood biography

Sonu Sood biography

सोनू सूद ने कोरोना काल के समय में लाचार और दुखी लोगों का दिल खोलकर मदद किया था । जिसकी वजह से लोगों के दिलों में एक वास्तविक हीरो के रूप में अपनी जगह बना चुके हैं । Sonu Sood biography | सोनू सूद का जीवन परिचय ।

सोनू सूद की प्रमुख फिल्में

सोनू सूद ने बहुत सारी फिल्मे की हैं जिनमे से कुछ प्रमुख फिल्में निम्नलिखित हैं ।

S.N.फिल्म का नाम वर्ष
1कालजघर 1999
2नेंजिनीले1999
3हैंड्स अप 2000
4मजनू ल 2001
5.शहीद-ए-आजम 2002
6जिंदगी खूबसूरत है 2002
7राजा 2002
8अमैलू अब्बिलु2003
9कहाँ हो तुम 2003
10कोविलपट्टी वीरलक्ष्मी2003
11युवा 2004
12मिशन मुंबई 2004
13अथाडु 2005
14सुपर2005
15चन्द्रमुखी2005
16सिसकियाँ 2005
17आशिक बनाया आपने 2005
18डाइवोर्स 2005
19अशोक2006
20रॉकइन ‘ मीरा 2006
21जोधा अकबर 2008
22सिंह इस किंग 2008
23मिस्टर मेधावी 2008
24एक विवाह ऐसा भी 2008
25एक निरंजन 2009
26सिटी ऑफ लाइफ 2009
27बंगारु बाबू 2009
28ढूंढते रह जाओगे 2009
29अंजानेनेयुलु2009
30अरुंधति 2009
31दबंग 2010
32तिनमार 2011
33शक्ति 2011
34बुड्ढा होगा तेरा बाप 2011
35ओस्ते 2011
36दुकूडु 2011
37कांदिरीगा2011
38वीर विष्णुवर्धन2011
39मैक्सिमम2012
40जुलाई बिट्टू 2012
41ऊ कोदथारा ? उलिक्की पडथारा ?2012
42माधा गधा राजा 2013
43शूटआउट एट वडाला2013
44रमइया वस्ता वैया 2013
45कुछ दिन कुछ पल 2013
46ब्रह्मा 2013
47भाई 2013
48राणा2013
49सिंबा 2018
Sonu Sood biography Allu Arjun biography | अल्लू अर्जुन की जीवनी, Rashmika Mandanna Biography , motivenews.net

सोनू सूद के कुछ रोचक तथ्य

सोनू सूद के बारे में कुछ ऐसी जानकरियाँ हैं जो निम्नलिखित हैं । Sonu Sood biography ।

  1. सोनू सूद बहुत ही लंबे इंसान हैं । ये लंबाई में अमिताभ बच्चन से भी 1 इंच ज्यादा लंबे हैं । वैसे इनकी लंबाई 6 फुट 1 इंच है ।
  2. सोनू सूद की बड़ी बहन हैं , जिनका नाम मोनिका है जो एक वैज्ञानिक हैं ।
  3. सोनू का बचपन से ही अभिनेता बनने की इक्षा थी , हलाकी इनके परिवार मे किसी भी का ब्यक्ति फिल्मी दुनियाँ से ताल्लुक नहीं था ।
  4. सोनू सूद ने पहली बार जिस फिल्म में काम किया था उस फिल्म का नाम शहीद-ए-आजम था , जो काफी सफल फिल्म रही ।
  5. हिन्दी ,पंजाबी , कन्नड ,तेलुगु , और तमिल , पाँच अलग अलग भाषाओं में फिल्मों में काम कर चुके हैं ।
  6. ये अपनी फिटनेस को लेकर हमेशा सक्रिय रहते हैं । हमेशा एक्सर्साइज़ करते रहते हैं ।
  7. जैकी चैन इनके पक्के दोस्त हैं । इनकी दोस्ती कुन जी फू योगा में शूटिंग के दौरान हुई थी ।
  8. इंहोने चीनी फिल्म जुआन जैन्ग में 2016 में चीनी डेब्यू किया था ।

Sonu Sood biography ,

सोनू सूद के कैरियर की शुरुआत

सोनू सूद बचपन से ही एक इंजीनियर बनाना चाहते थे । इसीलिए नागपुर के यशवंतराव चरण कालेज ऑफ इंजीनियरिंग नागपुर से इंजीनियरिंग भी किया था । लेकिन इसी दौरान सोनू को एक्टिंग और मॉडलिंग का जुनून सवार हो गया । और इसके लिए वे मुंबई आ गए । उनके पास बहुत कम पैसे थे जो कुछ ही दिनों मे खर्च हो गए । ये उस समय एक कमरे में 6 लोगों के साथ रह रहे थे , फिर भी पैसों की तंगी के कारण एक प्राइवेट कंपनी में काम करने लगे । Sonu Sood biography | सोनू सूद का जीवन परिचय

काम के साथ साथ एक्टिंग कंपटीशन में भाग लिया करते थे । इनकी मेहनत रंग लायी और सन 1999 में एक तमिल फिल्म कालजघर में काम करने का मौका मिला । इसके बाद से ही इनके फिल्मी सफर की शुरुआत हो गयी और छोटी मोटी फिल्मों मे काम करने के लिए चांस मिलता गया । एक फिल्म में इंहोने काम किया जो 2008 में जोधा अकबर नाम से थी , इस फिल्म के लिए इन्हे सर्व श्रेष्ठ सहायक अभिनेता के लिए नामित किया गया था । Sonu Sood biography.

इसके बाद इंहोने एक से बढ़कर एक फिल्में किया युवा ,मिशन मुंबई ,आशिक बनाया आप ने , सिसकियाँ ,डाइवोर्स , सिंह इस किंग , एक विवाह ऐसा भी , दबंग , ढूंढते रह जाओगे , बुड्ढा होगा तेरा बाप , शूट आउट एट वाडला ,रमईया वस्तामैया ,सिंबा ,राणा जैसी बहुत से फिल्मे कर चुके हैं ।

Sonu Sood biography | सोनू सूद का जीवन परिचय , पढ़कर इनके बारे में जन ही चुके होंगे आशा है आप को पसंद आया होगा । Sonu Sood biography | सोनू सूद का जीवन परिचय । धन्यबाद .

प्रश्न . सोनू सूद का गाँव कौन सा है ?

उत्तर. सोनू सूद का गाँव मोंगा , पंजाब है ।

प्रश्न . सोनू सूद के पिता का क्या नाम है ?

उत्तर. सोनू सूद के पिता का नाम शक्ति सागर सूद और माता का नाम सरोज सूद है । इनके पिता पेशे से एक एंटरप्रेन्योर तथा माता सरोज सूद एक टीचर थीं ।

प्रश्न .सोनू सूद की पत्नी कौन हैं ?

उत्तर . सोनू सूद की पत्नी का नाम सोनाली सूद है । इनका विवाह 1996 में हुआ था ।

प्रश्न . सोनू सूद का जन्म कब हुआ था ?

उत्तर. सोनुसूद का जन्म 30 जुलाई 1973 को मोंगा , पंजाब में हुआ था।

Allu Arjun biography | अल्लू अर्जुन की जीवनी

Allu Arjun biography | अल्लू अर्जुन की जीवनी । अल्लू अर्जुन एक तेलुगु भारतीय फिल्म अभिनेता हैं । ये बचपन से ही एक्टिंग करते आ रहे हैं । इन्होंने फिल्मों में बाल कलाकार के रूप में भी अभिनय कर चुके है । अपने पहली फिल्म गंगोत्री में एक हीरो की भूमिका में नजर आएं हैं । इसके बाद बहुत सारे फ़िल्मों में अभिनय किया है । अल्लू अर्जुन एक मशहूर भारतीय अभिनेता चिरंजीवी के भतीजे हैं ।

Allu Arjun biography
अल्लू अर्जुन

Allu Arjun biography in Hindi

अल्लू अर्जुन का पूरा ब्यौरा निम्न लिखित हैं :

1 पूरा नाम अल्लू अर्जुन
2 घर का नाम अल्लू , स्टाइलिस्ट स्टार , बन्नी
3 पिता का नाम अल्लू अरबिंद
4 जन्म तिथि 8 अप्रैल 1983
5 जन्म स्थान चेन्नई तमिलनाडु भारत
6 धर्म हिन्दू
7 जाति यादव
8 भाई का नाम बड़ा भाई अल्लू बेंकटेश
9 छोटा भाई अल्लू सिरीश
10 पत्नी का नाम स्नेहा रेड्डी 2012–अबतक
11 बच्चे 2
12 माता का नाम अल्लू निर्मला
13 कार्यकाल 2001 से वर्तमान
14 पेशा फिल्म अभिनेता , गायक , डांसर
15 राष्ट्रीयता भारतीय
16 निवास हैदराबाद तेलंगाना भारत
17 आंख का रंग भूरा
18 बाल का रंग भूरा
19 लंबाई 5 फुट 9 इंच
20 वजन 70kg
21 चेस्ट 42 इंच
22 कमर 36 इंच
Allu Arjun biography | अल्लू अर्जुन की जीवनी
Allu Arjun biography

अल्लू अर्जुन का फिल्मी सफर

अल्लू अर्जुन बचपन में कुछ फिल्मों में काम किया फिर वयस्क होने के बाद इन्होंने पहली फिल्म गंगोत्री से शुरुआत किया है । इसके बाद इनकी दूसरी फिल्म 2004 में आर्य हिट हुई थी । इन्होंने एक के बाद कई हिट फिल्में किया है । इनकी चौथी फिल्म हैप्पी 2006 में रिलीज़ हुई थी जो बॉक्स ऑफिस पर बहुत हिट हुई । जो बहुत ज्यादा लाभ कमाने में कामयाब रही है ।

2007 में अल्लू अर्जुन की अपनी पांचवी फिल्म देसमुदुरु फिल्म रिलीज हुई जो और अधिक सफल फिल्म रही है । जो रिलीज होने के बाद पहले हफ्ते में ही 19 करोड़ रुपए की कमाई किया । जो अबतक की सबसे ज्यादा कमाई वाली फिल्म रही है ।

शंकरदादा जिंदाबाद में भी अतिथि भूमिका निभाई थी । इनकी सातवीं फिल्म परुगु 1 मई 2008 को रिलीज हुई , इसके निर्माता दिल राजू और निर्देशक भास्कर थे । यह फिल्म 100 दिनो तक सफलता पूर्वक थियेटरों में चली थी ।और काफी चर्चित फिल्म हुई थी । इसी फिल्म की वजह से एक सफल अभिनेता के रूप में चर्चित हुए ।

इनकी बहुत सारी फिल्मों को मलयालम डब किया गया जिनमें से कुछ फिल्मों का नाम भी बदल दिया गया । जिसकी वजह से ये केरल में बहुत लोकप्रिय हो गए । Allu Arjun biography | अल्लू अर्जुन की जीवनी ।

अल्लू अर्जुन का पारिवारिक परिचय

अल्लू अर्जुन के परिवार में बहुत से लोग पहले से ही फिल्मों में काम कर रहे हैं । इनके पिता एक निर्माता हैं । तथा इनके चाचा भी चिरंजिवी भी एक मशहूर फिल्म अभिनेता हैं । और भी कई परिवार के लोग हैं जो फिल्मों में काम करते हैं । तेलुगु सिनेमा में इनका जन्म ही हुआ है । इन्ही सब वजहों से काफी सफल भी रहे हैं । Allu Arjun biography | अल्लू अर्जुन की जीवनी ।

Allu Arjun ki NET Worth

अल्लू अर्जुन एक बहुत ही मशहूर हैं और एक्टिंग भी बहुत अच्छी करते हैं इसलिए इनकी डिमांड बहुत ज्यादा है । अल्लू अर्जुन की कुल संपत्ति 350 करोड़ रुपए जो 47 मिलियन डॉलर के बराबर होता है । फिल्मों के अलावा इनकी कमाई का मुख्य स्रोत एडवरटाइजिंग भी है ।

अल्लू अर्जुन के कुछ रोचक तथ्य

  1. अल्लू अर्जुन एक बहुत अच्छे चारकोल आर्टिस्ट भी हैं ।
  2. इनको मैक्सिकन और थाई डिस बहुत पसंद है ।
  3. अल्लू अर्जुन एक बहुत अच्छे डांसर हैं ।
  4. इनको खाली समय में पुस्तके पढ़ना बहुत पसंद है ।
  5. इनको रानी मुखर्जी और चिरंजीवी फेवरिट फिल्मी कलाकार हैं ।
  6. इनकी सबसे ज्यादा पसंदीदा तेलुगू फिल्म इन्द्र है ।
  7. अल्लू अर्जुन के दादा एक महान कमेडियन थे , जिनका नाम अल्लू राम लिंगैया है ।
  8. जिमनास्टिक और मार्शल आर्ट के लिए अपने स्कूल में प्रसिद्ध थे ।
  9. अल्लू अर्जुन एक मात्र ऐसे अभिनेता हैं जिनके केरेल में सबसे ज्यादा पसंद किया जाता है ।
  10. इनके तीन चाचा चिरंजीवी , पवन कल्याण और नगेन्द्र बाबू फिल्म इंडस्ट्रीज में कार्य करते हैं ।
  11. फेस्बूक पगे पर इनके 1.5 करोड़ फलोवर हैं ।
  12. अल्लू अर्जुन विज्ञापन एवं माडलिंग में भी कार्य कर चुके हैं ।

अल्लू अर्जुन को मिले अवार्ड एवं पुरस्कार

इनको निम्न लिखित अवार्ड एवं पुरस्कार मिल चुके हैं । Allu Arjun biography | अल्लू अर्जुन की जीवनी

  1. सन 2004 में फिल्म आर्या के लिए नंदी स्पेशल जूरी अवार्ड ।
  2. सन 2009 में फिल्म आर्या 2 के लिए भी नंदी स्पेशल जूरी अवार्ड ।
  3. सन 2009 में फिल्म परुगु के लिए सर्वश्रेष्ठ तेलुगू फिल्म अभिनेता का फिल्मफेयर अवार्ड ।
  4. सन 2010 में फिल्म वेदं के लिएसर्वश्रेष्ठ तेलुगू फिल्म अभिनेता का फिल्मफेयर
  5. सन 2014 में फिल्म रेसगरम के लिए सर्वश्रेष्ठ तेलुगू फिल्म अभिनेता का फिल्मफेयर

इनकी बहुत सारी फिल्में सुपर डुपर रहीं हैं जो बॉक्स ऑफिस पर बहुत ही बेहतरीन परफार्मेंस दीं हैं । Allu Arjun biography | अल्लू अर्जुन की जीवनी ।

Rashmika Mandanna Biography को भी पढ़ सकते हैं । ऑनलाइन पैसे कैसे कमाएं को भी पढ़ कर जानकारी ले सकते हैं । motivenews.net और biographyrp.com को पढ़ सकते हैं । https://motivenews.net/category/how-to-make-money/

Allu Arjun biography | अल्लू अर्जुन की जीवनी आप को बहुत पसंद आई होगी । कृपया कमेंट करके बताएं ।

प्रश्न .अल्लू अर्जुन की कुल संपत्ति कितनी है ?

उत्तर..अल्लू अर्जुन की कुल संपत्ति 350 करोड़ रुपए है ।

अल्लू अर्जुन की पत्नी का क्या नाम है ?

अल्लू अर्जुन की पत्नी का नाम स्नेहा रेड्डी है ।

प्रश्न . अल्लू अर्जुन के कितने बच्चे हैं ?

उत्तर . अल्लू अर्जुन के दो बच्चे हैं ।

Mahima Chaudhary | महिमा चौधरी का जीवन परिचय

Mahima Chaudhary biography in hindi , महिमा चौधरी का जीवन परिचय , Mahima Chaudhary, महिमा चौधरी एक भारतीय एक्ट्रेस हैं । इन्होंने बहुत सारी हिंदी फिल्में किया है । बहुत सारी फिल्में हिट भी रहीं हैं ।

Mahima Chaudhary
Mahima Chaudhary

महिमा चौधरी का जीवन परिचय

13 सितम्बर 1973 को महिमा चौधरी का जन्म दार्जलिंग पश्चिमी बंगाल में हुआ था । इनका बचपन का नाम ऋतु चौधरी था । इनकी मां एक नेपाली थीं जबकि पिता उत्तर प्रदेश के रहने वाले थे ।

महिमा ने अपनी शादी 2006 में बॉबी मुखर्जी से की थी , लेकिन उनकी शादी के 10 साल बाद ही 2016 में यह रिश्ता टूट गया । इनसे एक बेटी पैदा हुई थी जिसका नाम आर्याना चौधरी है ।

Mahima Chaudhary के जीवन से जुड़ी कुछ खास जानकारी

वास्तविक नामऋतु चौधरी
जन्म तिथि13 सितम्बर 1973
ऊंचाई5 फुट 4 इंच
वजन65kg
आंख का रंगभूरा
बाल का रंगभूरा
जन्म स्थानदार्जिलिंग पश्चिमी बंगाल
प्राथमिक विद्यालयडाउ हिल इन कुरसिओंग
कॉलेजलोरेटो कॉलेज दार्जिलिंग
शैक्षिक योग्यताबैचलर डिग्री
हॉबीतैराकी , खाना बनाना , पढ़ना
पसंदीदा अभिनेत्रीजूही चावला
पसंदीदा अभिनेताशाहरुख खान
पसंदीदा कलर काला
पसंदीदा भोजन मछली करी
वैवाहिक स्थितिविवाहित
पति का नामबॉबी मुखर्जी
बेटी का नामअरियाना चौधरी

महिमा चौधरी की शिक्षा

हाई स्कूल तक की पढ़ाई महिमा चौधरी ने डाउन हिल स्कूल से किया था । लोरेटो कॉलेज दार्जिलिंग से बाकी आगे की पढ़ाई पूरी की । इनका मन पढ़ाई में नहीं लगा इसलिए इन्होंने 1990 में पढाई छोड़कर मॉडलिंग में अपना कैरियर शुरू किया । साथ ही बहुत से विज्ञापनों में भी काम किया ।

Mahima Chaudhary ka Careers

महिमा ने अपनी पहली फिल्म की शुरुआत 1997 में परदेश से किया था । इसका श्रेय सुभाष घई को जाता है जिन्होंने महिमा चौधरी को हिंदी फिल्म के लिए ऑफर किया था । इस फिल्म के लिए इनको फिल्म फेयर अवार्ड भी मिला था ।

इसके बाद दाग दी फायर फिल्म में नजर आई । इस फिल्म में डबल रोल में एक्टिंग की थी । ये फिल्म बॉक्स ऑफिस पर हिट रही । इसके लिए बहुत प्रशंसा हुई । इसके बाद लज्जा फिल्म में बहुत दमदार अभिनय किया । जो दहेज प्रथा के खिलाफ थी ।

महिमा चौधरी ने एक के बाद एक हिट फिल्में किया था । जो बहुत ही कामयाब रही हैं ।

महिमा चौधरी द्वारा की गई प्रमुख फिल्में

S N फिल्म का नामवर्ष
1परदेस1997
2धड़कन2000
3दिल है तुम्हारा2002
4ओम जय जगदीश हरे2002
5तेरे नाम2003
6बागबान2003
7एल ओ सी 2003
8साया2003
9दोबारा2004
10जमीर द फायर विदीन2005
11कुछ मीठा हो जाए2005
12सेहर2005
13फिल्म अभिनेता2005
14होम डिलीवरी2005
15सौतन दूसरी औरत2006
16सैंडविच2006
17कूडियो का है जमाना2006
18सरहद पार2006
19गुमनाम2008
20गैंगस्टर2015
21डार्क चॉकलेट2016
Mahima Chaudhary

पुरस्कार एवम अवार्ड

महिमा चौधरी ने कई पुरस्कार और अवार्ड जीते हैं जो निम्न लिखित हैं :

  1. Zee Cine awards for best Female debut – pardes 1998
  2. Zee Cine award Lux face of the year -pardes 1998
  3. Filmfare Lux new face award – Pardes
  4. Bollywood Movie Award for best supporting actress -Dhadakan -2001

महिमा चौधरी को ब्रेस्ट कैंसर

महिमा चौधरी को ब्रेस्ट कैंसर भी हो गया था जो बहुत दिनों तक छुपाए रखा । अनुपम खेर ने जब फोन किया तो वह अपने आप को रोक नहीं पाईं । बहुत ही भाउक हो गई और अपने आपको कैंसर होने की बात को साझा किया । इससे पहले इनके माता पिता को भी पता नहीं था । कीमो थिरेपी की वजह से इनके पूरे बाल झड़ चुके हैं ।

महिमा चौधरी अपना इलाज अमेरिका में करवाकर लौट चुकी हैं और अब पूरी तरह से स्वस्थ भी हो चुकी हैं ।

महिमा चौधरी एक बहुत ही बेहतरीन अदाकारा हैं । जिन्होंने बहुत सारी हिट फिल्में दी हैं । और भी लोगों के जीवन के बारे जानकारी चाहिए तो पढें Rashmika Mandanna Biography , Neha kakkar biography | नेहा कक्कड़ की जीवनी and Motivenews.net

Thamarai Selvi |थमराई सेल्वी का जीवन परिचय

Thamarai Selvi

Thamarai Selvi एक तमिल भारतीय एक्ट्रेस हैं । इनका जन्म 17 मई 1989 को पुदुकोट्टई तमिलनाडु में हुआ था । इस पोस्ट में थमराई सेल्वी का जन्म स्थान ,माता पिता , भाई , बहन ,पति और ब्वॉयफ्रेंड आदि की पूरी जानकारी दी गई है । पहले बहुत कम लोग इन्हें जानते थे लेकिन बिग बॉस में आने के बाद काफी लोग इन्हें जानने लगे हैं ।

Thamarai Selvi
Thamarai Selvi

Thamarai Selvi का जीवन परिचय हिन्दी में

1पूरा नामथमराई सेल्वी
2जन्म तिथि15 मई 1989
3पिता का नामअभी पता नहीं
4 माता का नामअभी पता नहीं
5पति का नामसारथी
6जन्म स्थानपुदुकोट्टई तमिलनाडु
7बच्चों का नामशिवरामन
मेशा वर्धन
8वजन75 kg
9लंबाई5 फुट 3 इंच
10बालों का रंगकाला
11आंखो का रंगकाला
12वैवाहिक स्थिति विवाहित
13धर्म हिन्दू
14राष्ट्रियता भारतीय
15भाई का नाम अभी पता नहीं
16बहन का नाम अभी पता नहीं
17बॉयफ्रेंड का नाम अभी पता नहीं
18प्रसिद्धि का कारण बिग बॉस 5
19पेशा ड्रामा एक्ट्रेस , एक्ट्रेस
20बर्तमान निवास चेन्नई , तमिल नाडु , भारत
थमराई सेल्वी का जीवन परिचय

थमराई सेल्वी का कैरियर

थमराई को बचपन से ही एक्टिंग का शौक था । वे बहुत से नाटकों मे काम कर चुकी हैं । बहुत से गांवों और त्यौहारों में भी नाटक पार्टी जाया करती थीं । शुरुआत में इन्हें बहुत कम लोग ही जानते थे लेकिन जब इन्हे बिग बॉस सीजन 5 में जबसे इन्हे चुना गया तबसे इनकी अच्छी ख़ासी पहचान बन गयी गई है । अब अपने अच्छे प्रदर्शन के कारण काफी लोग पसंद करने लगे हैं ।

कमल हसन द्वारा होस्ट बिग बॉस अल्टिमेट में इस समय एक प्रतियोगी के रूप में दिखाई दे रहीं है । जो विजय टीवी पर प्रसारित किया जा रहा है ।

थमराई सेल्वी के कुछ रोचक तथ्य

  • थमराई की पहचान बिग बॉस सीजन 5 से हुई थी ।
  • ये पाँच भाषाओं मे कम कर चुकी हैं , जिनमे से मुख्य भाषा तमिल है ।
  • ये अपने बारे मेन ज्यादा जानकारी साझा नहीं करती हैं ।
  • थमराई सेल्वी एक नादगा क्लैग्नर हैं , कोविल थिरुविलास और बिभिन्न आयोजनों मे वल्ली थिरुमानम नगदम करती हैं ।
  • ये अक्सर करके शो मेन कामेडी रोल करती हैं ।

और पढ़ें Rashmika Mandanna Biography,,Rashmika Mandanna | रश्मिका मंदाना और motivenews

Quest. थमराई सेल्वी कौन हैं ?

Ans. थमराई सेल्वी एक मशहूर ड्रामा आर्टिस्ट हैं । इनके पति का नाम सारथी है । ये पुदुकोट्टई तमिलनाडु की रहने वाली हैं । ये बिग बॉस सीजन 5 में काम करने के बाद से मशहूर हो गयी हैं ।

Quest. थमराई के पति का नाम क्या है ?

Ans. थमराई के पति का नाम सारथी है ।

Quest.निरूप नन्दकुमार कौन हैं ?

Ans. निरूप नंदकुमार एक भारतीय मॉडल हैं । ये एक अच्छे ब्यावसाइक और तमिलनाडु मेन एक अभिनेता हैं । ये बिग बॉस रियल्टी शो बिग बॉस सीजन 5 2021 से मशहूर हुए हैं ।

Ratan Tata Biography In Hindi

Ratan Tata Biography In Hindi
Ratan Tata Biography In Hindi

Ratan Tata Biography In Hindi । इनका पूरा नाम रतन नवल टाटा है । इनका जन्म 28 दिसम्बर 1937 को सूरत गुजरात में हुआ था । ये इस समय वर्तमान में भारत के सबसे बड़े ब्यापारिक समूह टाटा समूह के चेरिटेबल ट्रस्ट के अध्यक्ष हैं । ये नवल टाटा के बेटे हैं । रतन टाटा को नवजबाई टाटा ने अपने पति की मृत्यु के बाद गोंद लिया था , क्योकि नवजबाई टाटा अकेली पड़ गयीं थी । उस समय रतन टाटा 10 साल के थे । रतन टाटा के एक छोटे भाई भी थे । जिनका नाम जिमी टाटा था जो 7 साल के थे । 1940 ई . में इनके माता पिता एक दूसरे से अलग हो गए थे ।

नवजबाई टाटा ने दोनों भाइयो की परवरिश की थी । जो बहुत शख्त मिजाज की थी । लेकिन अंदर से बहुत नरम दिल थीं । इनके एक सौतेले भाई नोएल टाटा भी हैं ।

Ratan Tata Biography In Hindi (रतन टाटा का जीवन परिचय )

रतन टाटा क बारे में कुछ महत्व पूर्ण जानकारी निम्न लिखित है ।

1Name (नाम )रतन नवल टाटा
2Father,s Name (पिता का नाम ) नवल टाटा
3Mother,s Name (माता का नाम )सूनू टाटा
4Date of Birth (जन्म तिथि )28/12/1937
5Birth of Place ( जन्म स्थान )सूरत गुजरात
6Education (शिक्षा )बी एस डिग्री संरचनात्मक इंजीनियरिंग एवं वास्तु कला में उन्नत प्रबंधन कार्यक्रम
7Cast (जाति )पारसी
8Home Town (निवास )मुंबई
9Marital Statusअविवाहित
10Nationalityभारतीय
11profession (पेशा )उद्योग
12प्राथमिक स्कूल कैंपियन स्कूल मुंबई
13माध्यमिक विद्यालय बिशप कॉटन स्कूल शिमला
14उच्च शिक्षा Riverdale Country school न्यूयार्क
15पुरस्कार पद्म बिभूषण (2008) ,OBE (2009)

रतन टाटा का ब्यावहारिक जीवन

रतन टाटा का स्वभाव बहुत ही सुंदर है । ये शांत प्रवृति के एवं शर्मीले ब्यक्ति हैं । इनका आचरण बहुत ही उत्तम है । रतन टाटा बहुत ही सामान्य जीवन जीते हैं । इनको दिखावा बिल्कुल भी पसंद नहीं है । ये बहुत ही परोकारी ब्यक्ति हैं । अपने स्टॉफ के के प्रति इनका रवैया हमेशा बहुत ही उत्तम रहा है । ये एक परोपकारी ब्यक्ति हैं । इन्हे परोपकार की वजह से बहुत सारे पुरस्कार मिल चुके हैं । Ratan Tata Biography In Hindi

रतन टाटा कैसे बने देश के सबसे बड़े उद्योगपति

  • रतन टाटा सबसे पहले लॉस एंजिल्स , कैलिफोर्निया मे स्थित जोन्स एंड एमोन्स में काम किया । रतन टाटा अमेरिका में ही बसना चाहते थे । लेकिन उनकी दादी की तबीयत खराब हो गयी । इसी कारण बस अमेरिका में बसने का सपना छोड़कर भारत वापस आ गए । और IBM में काम मरने लगे । ये बात जेआरडी टाटा को अच्छी नहीं लगी । जिसके कारण उन्होने रतन टाटा को टाटा ग्रुप के साथ काम करने को कहा । यहीं से उनके कैरियर की शुरुवात हुई । और पीछे मुड़कर नहीं देखा ।
  • रतन टाटा ने 1961 से टाटा के साथ मिलकर काम करना चालू किया । शुरुवात में रतन टाटा ने शॉप फ्लोर पर काम किया फिर बाद में टाटा ग्रुप की कंपनियों के साथ मिलकर काम करने लगे । और बहुत लगन के साथ काम करने लगे । काम की लगन को देखते हुए 1971 में नेशनल इलेक्ट्रॉनिक्स कंपनी (nelco) का डायरेक्टर चुन लिया गया ।
  • 1981 में टाटा कंपनी बहुत घाटे में आ गयी थी । जो लगभग 40% घाटे में चल रही थी । इन्ही सब को देखते हुए इन्हे टाटा का अध्यक्ष चुन लिया गया, जिसके बाद फिर से मुनाफे में चलाने लगी और थोड़े समय के बाद ही 1991 में रतन टाटा को टाटा ग्रुप का उत्तराधिकारी बना दिया गया ।
  • रतन टाटा ने अपनी सूझ बुझ से काम करके टाटा ग्रुप की किस्मत ही बदल डाले । कंपनी का ग्रोथ बहुत बढ़ गया । और टाटा का नाम पूरी दुनियाँ मे छा गया । Ratan Tata Biography In Hindi
  • टाटा ने अपनी पहली कार टाटा इंडिका नाम से 1998 मे लांच किया । इसके बाद एक के बाद कई कारें बाजार में उतारा जो टेटली , जेगुयार ,लैंड रोवर और कोरस नाम से थीं । इसके बाद उन्होने वर्ड की सबसे सस्ती कर टाटा नैनो निकाला जो फ्लाफ हो गयी ।
  • 28 दिसम्बर 1912 को टाटा समूह की सभी जिम्मेदारियों से रतन टाटा रिटायर हो गए । Ratan Tata Biography In Hindi

इस प्रकार से रतन टाटा एक ग्रेट ब्यक्तित्व वाले व्यक्ति हैं । Ratan Tata Biography In Hindi । इनका देश के प्रति बहुत बड़ा योगदान है । देश का हर बच्चा जनता है रतन टाटा को ।अब आप जान ही गए होंगे रतन टाटा के बारे में ।

Baba Saheb Dr Bhim Rao Ambedkar की जीवनी पढ़े । Motivenews.net पढ़े ।http://motivenews.net